Monday, December 11, 2017
Authors Posts by SANJEEV RATHOR

SANJEEV RATHOR

73 POSTS 0 COMMENTS

गुज़रती रहीं इक नज़र दूर तक है

गुज़रती रहीं इक नज़र दूर तक है नज़र में नज़र का असर दूर तक है। चले हम चले तुम चले ज़िन्दगी भी सुनो ज़िन्दगी का सफ़र दूर...

भूख बड़ी ही गजब चीज हैं,कुछ भी करवा जाती हैं। 

भूख बड़ी ही गजब चीज हैं,कुछ भी करवा जाती हैं। या  तो  खुद  मर  जाती  हैं  या,दूजों को मरवाती हैं। जो भी करना ना चाहें  हम,...

हाँ मैं एक नारी हूँ

हाँ मैं एक नारी हूँ,मैं सब संभाल लेती हूँ । हर मुश्किल से खुद को उबार लेती हूँ । नहीं मिलता वक्त मुझे घर गृहस्थी से...

भारत में दिन कितने अच्छे हैं।

भारत में दिन कितने अच्छे हैं। रोटी को तरसते यहाँ बच्चे हैं।। नकली यति बन देश को लूटा। आज के साधु कितने सच्चे हैं।। भूख इस कद्र देखी...

बोलो क्यों न कुछ बोल रही हो तुम

क्या हुआ है तुमको  , क्यों न कुछ बोल रही हो तुम  ? चीख रहा है #अंतर्मन  , क्यों न कुछ बोल रही हो तुम   ? लुट...

“जी करता है सबकुछ बोल दूं

मन में उठती है एक चाहत मन के तरंगों को खोल दूं, जो है दिल में चीख चीख कर बोल दूं , पी कर #शराब मैं...

बच्चे के सिर से बहुत खून बह गया है

" बच्चे के सिर से बहुत खून बह गया है,आप जल्दी से जल्दी दो बोतल खून की व्यवस्था कर लीजिए। अस्पताल में बच्चे के...

प्रीत हमसे तो लगाकर देखिये  रूह में हमको समाकर देखिये I

प्रीत हमसे तो लगाकर देखिये रूह में हमको समाकर देखिये ! सुरमयी हर शाम होगी आपकी गीत प्यारा गुनगुनाकर देखिये ! झांककर दिल में ज़रा देखो सनम कौन आया...

मोती ज्ञान के लुटाकर देखिये।

मोती ज्ञान के लुटाकर देखिये। किसी को गले लगाकर देखिये।। किसी को पाटी थमाकर देखिये। अनपढ़ को जरा पढ़ाकर देखिये।। अंधेरों में दीप जलाकर देखिये। किसी का घर सजाकर...

आज़माना हो अगर तो आज़माकर देखिये।

दिल्लगी ही दिल्लगी है दिल लगाकर देखिये , आज़माना हो अगर तो आज़माकर देखिये। दिल किसी पर है फिदा नज़रें किसी पर हैं टिकी, इश्क़ है सच्चा...