जब मेरी मौत का फैसला कर दिया

जब मेरी मौत का फैसला कर दिया

54
0
SHARE

जब मेरी मौत का फैसला कर दिया
की इबादत तुझे फिर ख़ुदा कर दिया

तेरे हाथों से पीकर भी जिंदा हूँ मैं
तूने छूकर ज़हर को दवा कर दिया

इश्क हो या इबादत इरादत ने ही
पत्थरों को यहाँ देवता कर दिया

और कोई नहीं है मुकाबिल तेरे
या खुदा आंधियों को हवा कर दिया

भूल जाना न जर की चमक में ये सच
वक़्त ने कब किसे क्या से क्या कर दिया

आज रोते हो क्यूँ मौत को देखकर
अब तलक जिंदगी थी तो क्या कर दिया

इक हँसी पे तेरी जान देते थे जो
दूर जाकर उन्हें ग़मज़दा कर दिया

जब कहा मुझसे वैभव करो जागरण
पांव माँ के छुए रतजगा कर दिया

वैभव दुबे
#स्वरचित#

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY