गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई की वजह से हुयी मासूमों की मौत के सरकार ने बड़ी कार्यवाही करते हुए   बाल स्वास्थ्य विभाग के हेड डॉ कफील को यूपी एसटीएफ ने शनिवार को गोरखपुर से गिरफ्तार कर लिया.
शुक्रवार को ही डॉ कफील के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ था| जिसके बाद पुलिस ने कहा था कि अगर डॉ कफील सात दिन के अंदर आत्मसमर्पण  नहीं करते हैं तो उनके घर की कुर्की की जाएगी.
इस मामले में निलंबित प्रिंसिपल डॉ राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी डॉ पूर्णिमा शुक्ला को गिरफ्तार कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा जा चुका है.
मुख्य सचिव राजीव कुमार की जांच रिपोर्ट के बाद लखनऊ के हजरतगंज थाने में 9 लोगों के खिलाफ भ्रष्टाचार की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया था. इसी के बाद से डॉ कफील फरार थे. निलंबित प्रिंसिपल डॉ मिश्रा और उनकी पत्नी को पुलिस ने कानपुर से गिरफ्तार किया था. इस मामले में अभी भी छह आरोपी फरार चल रहे हैं
अभी इस मामले में पुष्प सेल्स के मनीष भंडारी, कॉलेज के एनेस्थीसिया विभाग के हेड डॉ सतीश, और कॉलेज के कर्मचारी लिपिक सुधीर, उदय और संजय अभी भी फरार चल रहे हैं.

STF का कहना है जल्द ही बाकी अपराधी भी उनके कब्जे में होंगे

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *