साहित्य

बाद तेरे कहाँ जिया हूँ मैं मुद्दतों से नहीं हँसा हूँ मैं गैर तो गैर थे उन्हें छोड़ो हाथ अपनों के ही लुटा हूँ मैं…