offtracknews
Category:

सब कुछ है पास मेरे, 

सब कुछ है पास मेरे, जाने फिर भी क्या चाहती हूँ? चिर आनंदित चित हो सर्वदा वही ख़ुशी तलाशती हूँ। बुझकर भी जो बुझी नहीं अजब सी प्यास है एक मन में उसी प्यास को मैं बुझाना चाहती हूँ। तृप्तता का विस्तृत सा भंडार चाहती हूँ। जुड़ाव दे प्रसन्नता,जुदाई अपार दर्द जुदाई से स्वतः ही हाथ मिलाना चाहती हूँ Continue Reading

Posted On :